एसबीआई 2016 से विश्वबैंक द्वारा शूररू किए गए सोलर रूफ्टाप वित्त पोषण कार्यक्रम को काम में ले रहा है। छत्तों पर सोलर प्लांट लगवाने के लिए एसबीआई वर्ल्ड बैंक से विशेष तोर लाइन ऑफ क्रेडिट लिया है।

SBI-World Bank Rooftop Solar PV Program: केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि सूक्ष्म, लघु, एवं मँझोले उद्यम (MSME) छतों पर सौर सायंत्र लगाकर कारोबार निपूर्णता मे सुधार ला सकते हैं। इसके लिए केन्द्रीय मंत्री ने MSME से निम्न दर पर मिलने वाली कर्ज योजना के लिए आग्रह किया। गडकरी ने, 2016 मे विश्व बैंक द्वारा शुरू किए गए ‘सोलर रूफ्टाप’ वित्त पोषण कार्यक्रम का जिक्र किया, जिसको SBI लागू करने जा रहा है। आइए रुख करते है SBI OR वर्ल्ड बैंक के रूफ्टाप सोलर PV प्रोग्राम कि ओर ….

SBI ने वर्ल्ड बैंक से विशेष तोर पर छतों पर सोलर प्लांट लगाने के लिए लाइन ऑफ क्रेडिट लिया है। इस प्रोग्राम के तहत SBI पूरे सोलर प्रोजेक्ट कि कुल लागत 75 फीसदी तक लोन के रूप मे दे रहा है। यह एक प्राकर का टर्म लोन है। इसके तहत 500 करोड़ से ज्यादा का लोन SBI के सभी कॉर्पोरेट अकाउंट ग्रुप ब्रांच, 50 करोड़ से 500 करोड़ तक का लोन कमर्शियल क्लाइंट ग्रुप ब्रांच ओर 50 करोड़ रुपए तक का लोन SME ब्रांच उपलब्ध कराएगी।

लोन भुगतान कि अवधि ब्याज दर।

SBI की 6 महीने की MCLR प्लस ग्राहक कि रिस्क सेटिंग के आधार पर 0.12% से लेकर 0.19% तक आधिक ब्याज दर रहेगी। MSME को दिए गए लोन इक्स्टर्नल बेंचमार्क क साथ लिंक्ड होंगे। लोन भुगतान का समय 15 वर्ष तक का रहेगा। मोरेटोरियम पीरीअड कमर्शियल ऑपरेशन शुरू होने कि तिथि से 12 महीने तक का है।  

कौन है वो लोगों जिन्हे मिल सकता है इस लोन स्कीम से लाभ।

कोई भी व्यक्ति अकेले प्रॉपवरिटेर के तौर पर, पार्ट्नर्शिप फर्म/ इंक्लुडिंग LLP व कंपनी/ स्पेशल पर्पस वीइकल/ NBFC बारोअर या उनकी पेरन्ट कंपनी/स्पॉन्सर SBI से रूफ्टाप सोलर सिस्टम लगाने हेतु लोन लेनें के लिए अप्लाइ कर सकते है। लोन सुविधा लेने के लिए ईछुक व्यक्ति के पास पावर सेक्टर मे कम से कम एक साल का अनुभव या पास्ट ट्रैक होना ऑर साथ ही साथ इनवेस्टमेंट ग्रैड का ECR होना अनिवार्य है। प्राइमेरी व कॉलेटरल सेक्योरिटी।

सभी फिक्स्ड एसेट्स, चल संपत्ति, करंट एसेट्स, लीज होल्ड राइट्स, कैश फ्लो, प्रोजेक्ट से जुड़े खातों व उनके अधिकारों आदि पर एक्सक्लूसिव फर्स्ट चार्ज बैंक को सौंपना होगा। बातोर सिक्युरिटी प्रोजेक्ट डाक्यमेन्ट अससिंगनमेंट बैंक के पास जमा होगा। यदि ग्राहक कि FCR 1.25 के नीचे है तो SBI कॉलेटरल सिक्युरिटी कि मांग सकता है।

किन डॉक्युमेंट्स कि पड़ेगी जरूरत?

  • आवेदनकर्ता और गारंटर की ID या एड्रेस प्रूफ जैसे- वोटर ID, पैन नंबर, आधार नंबर आदि।
  • आवेदनकर्ता और गांरटर के पिछले 3 वित्त वर्षों के इनकम टैक्‍स रिटर्न, वेल्‍थ टैक्‍स रिटर्न्‍स।
  • आवेदनकर्ता और उसके सहयोगियों की पिछले तीन सालों के बिजनेस की सालाना रिपोर्ट, जिसमें ऑडिटेड बैलेंस शीट और ट्रेडिंग व प्रॉफिट या लॉस अकाउंट मौजूद हों।

अगर आवेदनकर्ता कोई कंपनी है तो…

यदि आवेदनकर्ता कोई कंपनी है तो उसके मेमोरेंडम एंड आर्टिकल्‍स ऑफ एसोसिएशन, सर्टिफिकेट ऑफ कमेन्‍समेंट ऑफ बिजनेस लगेंगे। पिछले तीन साल का सेल्‍स टैक्‍स रिटर्न, डिटेल्‍ड प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट की कॉपी, प्रोजेक्‍टेड बैलेंस शीट, प्रॉफिट व लॉस अकाउंट, कैश फ्लो स्‍टेटमेंट, रिसोर्सेज स्‍टडी की कॉपी आदि भी लगेंगे।

​कैसे दी जाएगी गारंटी

शख्स/पार्टनरशिप फर्म/कंपनी, रूफटॉप सोलर पावर प्रॉडक्शन के लिए लोन को लेकर अप्‍लाई करती है तो प्रोपराइटर/पार्टनर्स/डायरेक्‍टर्स की पर्सन गारंटी की डिमांड की जाएगी। स्‍पेशल पर्पस व्‍हीकल्‍स/एसोसिएट्स/सब्‍सडियरीज के लोन लेने पर स्‍पॉन्‍सर की कॉरपोरेट गारंटी जरूरी होगी।

Source:- NavBharat Times